Add To BookRack
Title:
Prayojan Mulak Hindi Aur Anuvad
Tags:
Lekh
Article
Description:
जब भाषा समाज मे विशिष्ट प्रयोजनात्मक अथवा सेवा-माध्यम की भाषा के रूप में प्रयोग में लायी जाती है जो वह 'प्रयोजनमूलक भाषा' कहलाती है । आज वैश्वीकरण के इस युग मे हिंदी के इसी प्रयोजनमूलक रूप के समुचित विकास की नितांत आवश्यकता है ताकि 'हिंदी' बाज़ार की भाषा बनकर सेवा-माध्यम एवं रोजी-रोटी की भाषा बन सकें ।