Add To BookRack
Title:
Ab Aur Tab (अब और तब)
Tags:
Poetry
Kavita
Description:
राजनीति और कविताई में बड़ी बेमेल मिताई है। ‘अब और तब’ में कवयित्री का दूसरा संग्रह है। ‘गीत-अगीत’ पहला था। पूरी पुस्तक में भाव बरबस ही प्राणों को छू लेते हैं। ठिठक जाना पड़ता है।