Add To BookRack
Title:
Janmejay ka Nag Yagy
Tags:
Natak
Drama
Description:
इस नाटक की कथा का संबंध एक बहुत प्राचीन स्मरणीय घटना से है। भारत-वर्ष में यह एक प्राचीन परम्परा थी कि किसी क्षत्रिय राजा के द्वारा कोई ब्रह्महत्या या भयानक जनक्षय होने पर उसे अश्वमेघ यज्ञ करके पवित्र होना पड़ता था। रावण को मारने पर श्री रामचन्द्र ने तथा और भी कई बड़े-बड़े सम्राटों ने इस यज्ञ का अनुष्ठान करके पुण्य लाभ किया था।