Add To BookRack
Title:
Ghalib Chuti Sharab
Tags:
Memoirs
Sansmaran
Description:
यह रवीन्द्र कालिया के धारावाहिक, धाराप्रवाह संस्मरण ही नहीं आत्मस्वीकार और आत्मविस्तार भी है। यह रचना जीवनधर्मिता का आलोक देने के साथ-साथ अपने पाठक को समृद्ध भी करती है। पति सामर्थ्य और साहस का दस्तावेज है ग़ालिब छुटी शराब। जिगर की गंभीर बीमारी से जूझते हुए कोई मामूली रचनाकार जहाँ टूट कर बिखर जाता कालिया ने उसी संघर्ष को अपना पाथेय बना कर बड़ी बेबाकी से अपने को तार-तार कर देखा है। No. of Pages:326