Add To BookRack
Title:
Dalit Strivaad
Tags:
Dalit
Stri Vimarsh
Lekh
Article
Marginalised Publishers
Description:
दलित स्त्रीवाद अपनी लडाई संवैधानिक तरीके से लड़ने में विशवास रखता है । दलित स्त्रीवाद पुरषों से अलग रहकर कोई मर्दविहीन या मर्दरहित नयी दुनिया बनाने के यूटोपिया में नहीं जीता । दलित स्त्रीवाद एक ऐसे समाज की ओर अग्रसर है, जहाँ 'स्वाभिमान', 'सम्मान' और 'बराबरी' के साथ स्त्री अधिकारों की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके ।