Add To BookRack
Title:
Vigyapan Banta Kavi (विज्ञापन बनता कवि)
Tags:
Poetry
Kavita
Description:
रमणिका गुप्ता की ‘विज्ञापन बनता कवि’ से प्रस्तुत संकलन की कविताओं में समकालीन मनुष्य की पीड़ा के साथ-साथ इतिहास के गर्भ से अभिव्यक्त होती हुई मनुष्य की अभिशप्त नियति की विडम्बनाओं को प्रभावशाली रूप में अभिव्यक्त करने की बेचैनी है। इस संकलन की कविताएं न केवल समकालीन जीवन-स्थितियों में बदल रहे मनुष्य की मनःस्थितियों, भाव-बोध और संवेदनाओं की सूचनाएं देती हैं।